A+ A-

किसान और मोटापा



प्राचीन समय के लोग बड़े परिश्रमी होते थे, उनमें मोटापा नाम की कोई समस्या नहीं थी, जिससे उन लोगों को बीमारी भी बहुत कम लगती थी; तब इस बात से परेशान होकर, मोटापा अपनी पत्नी बीमारी के साथ भगवान के पास गया और पूछा- आपने हमें क्यों बनाया, जब इस धरती पर हमें कोई अपने पास फटकने भी नहीं देता है ?

भगवान ने कहा- एक समय आयेगा जब इस धरती पर तुम दोनों का राज होगा, धैर्य रखो |

वक़्त गुजरा, लोग आलसी होने लगे और मोटापा अपनी पत्नी बीमारी के साथ इंसानी शरीर में वास करने लगा | देखते ही देखते उनका साम्राज्य बढ़ने लगा, हर कोई मोटापा और बीमारी का शिकार हो गया |

शहरों और महानगरों में अपना राज स्थापित करने के बाद, मोटापा गाँव में भी राज करना चाहता था | एक दिन मोटापा अपनी पत्नी बीमारी के साथ गाँव की ओर आया, वहाँ उसकी मुलाकात एक किसान से हुई, जो खेत में काम करके अपनी पत्नी के साथ ख़ुशी-ख़ुशी घर जा रहा था |

उनकी ख़ुशी देख, बीमारी को जलन होने लगी और उसने अपने पति मोटापा से कहा- स्वामी, शहर में सब लोग हमसे दुखी हैं, पर यहाँ ये दोनों बहुत खुश नजर आ रहे हैं, मुझसे इनकी ख़ुशी देखी नहीं जा रही है |

मोटापा ने जोश में कहा- तुम चिंता मत करो, हम दोनों अभी इनके शरीर पर आक्रमण कर देते हैं |

ऐसा कहते ही मोटापा और बीमारी उनके शरीर में समा गये, जिससे वे दोनों किसान पति-पत्नी अचानक से सुस्त और मुरझा गये, फिर उस दिन उन्होंने आराम करके ही दिन गुजारा |

अगली सुबह किसान ने अपनी पत्नी से कहा- चलो, खेत चलते हैं |

किसान की पत्नी ने सुस्त भाव से कहा- आज रहने देते हैं, रोज-रोज भी क्या जाना !

किसान भी आराम करना चाहता था, फिर भी उसने जाने का मन बना लिया और अपनी पत्नी के साथ खेत में पहुँच गया | खेत में आकर उन्होंने देखा कि फसल-बुआई का बहुत सारा काम पड़ा हुआ है, दोनों किसान पति-पत्नी फसल-बुआई के काम में जुट गये |

घंटे भर खेत में काम करने के बाद उन दोनों किसान पति-पत्नी का शरीर पसीने से तरबतर हो गया, मोटापा और बीमारी पसीने के साथ बाहर बह गये, शरीर में फिर से चुस्ती-फुर्ती आ गयी |

मोटापा ने अपनी पत्नी बीमारी से कहा- किसान के शरीर में हमारा रहना मुश्किल है, अभी हम शहर वापस चलते हैं | जब गाँव भी शहर बन जायेंगे, तब हम इन पर फिर से हमला करेंगे |


प्रिय दोस्तों, आजकल की व्यस्त शहरी जीवनशैली में गाँव के किसान की तरह दिनभर परिश्रम करना संभव नहीं है, फिर भी हमें रोज कुछ मिनट व्यायाम और योग करके अपना पसीना बहाना चाहिए, ताकि हमारे शरीर के बुरे तत्व पसीने के साथ बाहर निकल आयें और स्वास्थ्य बना रहे | धन्यवाद|




जरुर पढ़ें :