A+ A-

109 वर्ष के इरविंग क्हान



इरविंग क्हान (Irving Kahn) एक अमेरिकी व्यापारी और निवेशक थे | इरविंग ने अपना कैरियर 1928 में शुरू किया और अपने 109 वर्ष के जीवनकाल के अंतिम दिन 24 फरवरी 2015 तक कार्य करते रहे |

अपने जीवन के अंतिम दिनों में भी वो हफ्ते के तीन दिन नियमित रूप से ऑफिस जाते और अपनी कंपनी क्हान ब्रदर्स ग्रुप का कार्यभार देखते |

बात इरविंग क्हान के 109वें जन्मदिन की है, इरविंग अपना 109वाँ जन्मदिन मना रहे थे | उनके ऑफिस में “पीटर” नाम का एक युवा कर्मचारी जो कि नया-नया आया था, ने अपने सहकर्मी से पूछा- इरविंग सर इतनी लम्बी उम्र तक भी काम कैसे कर पा रहे हैं ?

सहकर्मी ने कहा- सर कहते हैं, उनको अपनी उम्र का पता नहीं है, इसलिये वो कभी बूढ़े नहीं होते |
पीटर को समझ नहीं आया, तब सहकर्मी ने सुझाव दिया- यह सवाल तुम इरविंग सर से पूछना, वो तुम्हें अच्छे से समझा देंगे |

ऑफिस के कर्मचारी एक-एक करके इरविंग सर को तोहफे भेंट कर रहे थे |

पीटर ने अपना तोहफा भेंट करते समय कहा- सर, आपको जन्मदिन की ढेरों बधाई ! लेकिन एक सवाल मेरे मन में बार-बार आ रहा है, जिसका जवाब आपके अलावा यहाँ पर कोई नहीं दे सकता |

इरविंग क्हान ने मुस्कराकर हामी भरी |

पीटर ने पूछा- सर, आप 109 साल के हो गये हो | इतने बुढ़ापे में भी काम के प्रति इतना समर्पित कैसे हो ? आपकी उम्र के लोग पहले तो इस धरती पर मिलेंगे नहीं, और मिलेंगे, तो वे सिर्फ आराम करना ही पसंद करेंगे | इन सब के पीछे का राज क्या है ?

इरविंग क्हान ने मुस्कराकर कहा- बेटा, किसने कहा मैं बूढ़ा हो गया ! मैं अभी युवा हूँ, मेरे अन्दर आज भी वही जोश-जूनून है, जो इस कंपनी को शुरू करते समय था | यह जन्मदिन तो ख़ुशी मनाने का एक बहाना है, इन्सान की उम्र उसकी इच्छाशक्ति पर निर्भर करती है | अगर आपके पास हमेशा कुछ नया करने की इच्छाशक्ति होगी तो आप हमेशा कर्म के प्रति समर्पित रहोगे; अगर कुछ नया करने की इच्छाशक्ति नहीं होगी, तब आप युवा होकर भी बूढ़े बन जाओगे |

पीटर को समझ आ गया, अगर युवा बने रहना है, तो सदैव अपनी इच्छाशक्ति को जीवित रखना होगा |

इरविंग क्हान हमेशा अपने सहकर्मियों और कर्मचारियों के लिए प्रेरणास्रोत बने रहे |


प्रिय दोस्तों, सदैव कुछ नया करने की इच्छा आपको हमेशा युवा बनाये रखती है, आपका दिमाग रचनात्मक बना रहता है, इसलिए हमेशा कुछ नया करने की रचनात्मकता को बनाये रखो, फिर आप अपने जीवन से ऊबोगे नहीं और ना ही कभी बुढ़ापा आएगा | धन्यवाद|



जरुर पढ़ें :