A+ A-

करोड़ीमल की फटीचर आत्मा



सेठ करोड़ीमल धन-दौलत के पुजारी थे, धन-दौलत का उन्हें इतना मोह था कि वे दिन-रात धन-दौलत कमाने के चक्कर में लगे रहते थे | उनके जीवन का सिर्फ एक ही मकसद था, शहर का सबसे धनवान व्यक्ति बनना, इस चक्कर में ना उन्हें खाने का होश रहता था और ना ही कोई अनुशासित जीवनशैली थी |

अपनी चाहत के अनुसार, एक दिन वह शहर के सबसे धनी व्यक्ति बन गये | इस ख़ुशी में उन्होंने एक बड़ा महलनुमा घर बनवाया | गृहप्रवेश के दिन उन्होंने विशाल भोज रखा, भोज अच्छे से निपट गया, सारे मेहमान चले गये, तो आराम करने के लिए वे भी अपने कमरे में आ गये |

जैसे ही वे बिस्तर में लेटे, उन्हें एक आवाज सुनाई पड़ी- मैं तुम्हारी आत्मा हूँ, और अब मैं तुम्हारा शरीर छोड़कर जा रही हूँ |

सेठ करोड़ीमल घबराकर बोले- हे आत्मा ! यह तुम क्या करने जा रही हो ? तुम्हारे बिना मेरा शरीर निष्प्राण हो जायेगा | इतनी सुख-सुविधाओं से सुसज्जित यह महल जैसा घर मैंने तुम्हारे लिए ही तो बनवाया है, ताकि तुम मेरे शरीर के साथ यहाँ आराम से रह सको |

आत्मा बोली- यह मेरा घर नहीं है, मेरा घर तो तुम्हारा शरीर था, तुम्हारा स्वास्थ्य ही उसकी मजबूती थी | करोड़ों-अरबों रुपये कमाने के चक्कर में तुमने अपने शरीर की नींव हिला दी है, अब इस घर को ब्लड-प्रेशर, डायबिटीज, मोटापा, कमर-दर्द, हाइपरटेंशन जैसी बीमारियों ने घेर लिया है | तुम ना ठीक से चल पाते हो, ना खा पाते हो, और ना सो पाते हो ; ऐसे बेकार जर्जर शरीररूपी घर में अब मैं कैसे रह सकती हूँ, तुम ही बताओ ?

सेठ ने पश्चाताप करके कहा- मैं सब ठीक कर दूँगा, अच्छे से अच्छे डॉक्टरों को दिखाउँगा, पर तुम कहीं मत जाओ |

आत्मा ने धिक्कारा- अपनी जीवनशैली को अनुशासित करने के बजाय, हर छोटी-छोटी बात में हमेशा दवाइयाँ खाने से तुम्हारा शरीर खोखला हो गया है, अब कोई भी डॉक्टर तुम्हारे बेकार शरीर को ढहने से नहीं रोक पायेगा | इस बेकार शरीर में मेरी हालत फटीचर हो गयी है |

सेठ ने बहुत विनती करी, लेकिन आत्मा को रोकने का उनके शरीर में जरा भी सामर्थ्य नहीं था | एक गहरी साँस छोड़कर, आत्मा करोड़ीमल के शरीर से बाहर निकल गयी | सेठ करोड़ीमल का पार्थिव शरीर उस आलीशान हवेली में पड़ा रहा |

प्रिय दोस्तों, आपका अच्छा स्वास्थ्य, आपकी असली संपत्ति है | स्वस्थ शरीर नहीं, तो धन-दौलत का भी कोई मूल्य नहीं ; अच्छा स्वास्थ्य कमाना, धन-दौलत कमाने से अधिक कठिन काम है | धन्यवाद|



जरुर पढ़ें :