A+ A-

काँच की दीवार और शेर



एक बार चिड़ियाघर के कर्मचारियों ने एक प्रयोग किया, उन्होंने एक शेर को एक बड़े से पिंजरे में डाला और साथ ही उस पिंजरे में एक हिरन को भी डाल दिया |

उम्मीद अनुसार, शेर ने तुरंत झपट्टा मारकर उस हिरन को खा दिया | इसके बाद चिड़ियाघर के कर्मचारियों ने पिंजरे के बीचों-बीच में काँच की एक मजबूत दीवार लगाई, जिससे उस पिंजरे के दो हिस्से हो गए | पहले हिस्से में शेर को रखा गया तथा दूसरे हिस्से में फिर से एक हिरन रखा गया |

जैसे ही शेर की नजर हिरन पर पड़ी, वह बड़ी फुर्ती से उसकी ओर झपटा, लेकिन इस बार वह काँच की मजबूत दीवार से टकराया और रुक गया, पर उसने हार नहीं मानी | वह थोड़ी-थोड़ी देर में बड़ी फुर्ती से हिरन की ओर लपकता, और काँच की दीवार से टकराता रहता |

दूसरी ओर, हिरन पहले तो बहुत डर गया, लेकिन जब बार-बार कोशिशों के बाद भी शेर उसकी तरफ नहीं आ पाया, तो वह हिरन भी आराम से रहने लगा |

चिड़ियाघर के कर्मचारी, शेर और हिरन को बाहर से खाना दिया करते थे ; पर शेर को तो ताजा हिरन खाने की इच्छा थी, इसलिए वह हिरन की ओर बार-बार लपकता और काँच की दीवार से टकराकर रुक जाता | दो दिन तक लगातार कोशिश करने के बाद शेर की हिम्मत जवाब देने लगी |

शेर की हिम्मत को कम होता देख, चिड़ियाघर के कर्मचारियों ने काँच की मजबूत दीवार को हटाकर उस जगह पर पतले काँच की दीवार लगा दी | शेर अब भी दिन में एक-दो बार हिरन की तरफ आने की कोशिश करता, लेकिन अब उसकी रफ़्तार धीमी और सुस्त होती थी ; काँच की पतली दीवार होने के बावजूद, वह उसे पार नहीं कर पाता था | चिड़ियाघर के कर्मचारी बाहर से जो खाना देते, वह उसे ही खाता था ; हिरन को मारकर खाने के लिए संघर्ष करने का ख्याल उसने त्याग दिया था |

धीरे-धीरे, शेर के हमले बंद हो गए | कुछ दिनों बाद, चिड़ियाघर के कर्मचारियों ने काँच की पतली दीवार हटाकर पतला सा पारदर्शी परदा लगा दिया | मगर शेर ने तो मानो इस ओर ध्यान देना ही छोड़ दिया था, उसने अब हिरन की तरफ आने की कोशिश भी नहीं करी |

कुछ दिनों बाद, कर्मचारियों ने यह परदा भी हटा दिया, लेकिन शेर अब पिंजरे के आधे हिस्से में ही घूमता रहता और हिरन की तरफ नहीं आता था |

चिड़ियाघर में जो भी आता, शेर और हिरन को एक ही पिंजरे में बंद देखकर रोमांचित हो उठता ; जब इस बारे में चिड़ियाघर के कर्मचारियों से पूछा जाता कि आखिर ऐसा कैसे हुआ ? तो चिड़ियाघर के कर्मचारी यही कहते- दरअसल शेर ने कोशिश करना छोड़ दिया है, जिस वजह से उसने हार मान ली है, जबकि शेर और हिरन के बीच अब कोई बाधा नहीं है |

इस तरह शेर और हिरन की जोड़ी उस चिड़ियाघर में लोगों के लिए बहुत दिनों तक रोमांचक बनी रही |

प्रिय दोस्तों, इसी तरह जो इंसान मुश्किलों से हारकर बैठ जाता है, सफलता उससे दूर हो जाती है | परिस्थितियाँ बदलती रहती हैं, लेकिन हार मानने वाला इंसान आसान परिस्थितियों को भी पार नहीं कर पाता ; इसलिए कोशिश करना कभी मत छोड़ो, सफलता जरूर मिलेगी | धन्यवाद|